Sunday, February 26, 2012

तिनके का दर्द


एक तिनका
न जाने क्यूँ
बाकी रह गया
घोंसले में
सजने से

जी रहा है..
आजकल डर–डर के
गिन रहा है
सांसे.. इस चिंता में
हवा उड़ा न ले जाए
पानी बहा न दे
धुप जला न दे
मिट्टी दफ़न न कर दे
उसके अस्तित्व को..

सोंचता रहता है..
अब कैसे निहारेगा ?
नजदीक से
प्यारी चिड़िया को ,
कैसे देखेगा ?
चिड़िया के बच्चों को,
चहकते हुए,
पंख फैलाते हुए,
जीने का अंदाज..
सीखते हुए .

Copyright@संतोष कुमार ‘सिद्धार्थ’, २०१२ 

17 comments:

  1. Replies
    1. Onkar ji, Thank you valuable comments. Happy Holi!

      Delete
  2. बहुत गहन चिंतन...सुंदर अभिव्यक्ति...

    ReplyDelete
    Replies
    1. धन्यवाद कैलाश जी.. होली की शुभकामनाएं!.

      Delete
  3. बहुत खूब...
    घोसले से अलग क्या अस्तित्व है तिनके का???
    कुछ भी तो नहीं..

    ReplyDelete
    Replies
    1. धन्यवाद विद्या जी.. होली की शुभकामनायें.

      Delete
  4. बहुत खूब... गहरा चिंतन...

    ReplyDelete
  5. bahut sundar..kabhi kabhi kuch cheezen dara hi deti hai..chaahe wo kitne kareeb hi kyun na ho..!

    ReplyDelete
  6. बहुत सुन्दर अभिव्यक्ति!!!!!!

    ReplyDelete
  7. तिनके की पीड़ा को बहुत सुन्दर अभिव्यक्ति दी है आपने ! उत्तम रचना !

    ReplyDelete
  8. सहज शब्दों में सुन्दर भावाभिव्यक्ति...बधाई...।

    ReplyDelete
  9. इतने अच्छे-सच्चे विचार.... बधाई इस सृजन के लिए.

    ReplyDelete

बताएं , कैसा लगा ?? जरुर बांटे कुछ विचार और सुझाव भी ...मेरे अंग्रेजी भाषा ब्लॉग पर भी एक नज़र डालें, मैंने लिखा है कुछ जिंदगी को बेहतर करने के बारे में --> www.santoshspeaks.blogspot.com .