Thursday, October 20, 2011

आओ जलायें दीये .. आस्था और विश्वास के.


सुनो.. मेरे भाई
भाई कुम्हार !
मेरी छोटी सी विनती
कर लो स्वीकार
भूलूँगा नहीं..
कभी तेरा उपकार

अबकी बार..
जो मिटटी लाना
दीये बनाने को
उसमें है मुझे मिलाना
और चार मुठ्ठी मिटटी
बच्चों का मन रखने को

क्योंकि..अब भी शेष है..
आस्था और विश्वास
मन में हम-सबके ,
कि कुछ तो प्रभाव छोड़ेगी ..
मुठ्ठी भर पवित्र मिटटी
लाया हूँ जिसे 
मस्जिद, मंदिर, गिरिजा और गुरूद्वारे से

ताकि मैं भी..
जला सकूं करोडों दीये
आत्मीयता और प्यार के,
सदाचार और सद्भाव के
मन में मेरे-तुम्हारे,
और ह्रदय में हम-सबके

मेरे कुम्हार भाई..
करना मदद मेरी ..
कि हम जला सकें दीये,
आस्था और विश्वास के.

Copyright@Santosh kumar, 2011

आप सबको पावन ज्योतिर्मय पर्व दीपावली की हार्दिक शुभकामनायें!!. प्रभु कृपा से आपके जीवन में उल्लास और सुख-शांति हमेशा बनी रहे .
My new post of English Blog with Diwali Greetings : Happy Diwali !!

Photo Courtesy : Google Images

33 comments:

  1. ताकि मैं भी..
    जला सकूं करोडों दीये
    आत्मीयता और प्यार के,
    सदाचार और सद्भाव के
    मन में मेरे-तुम्हारे,
    और ह्रदय में हम-सबके

    बहुत अच्छी रचना.. आपकी नेक इच्छा पूर्ण हो..
    दीपावली की अग्रिम बधाई ..


    और हाँ.. आपको मेरे साथ थोडा मजाक करने का पूरा हक़ है..

    ReplyDelete
  2. सुंदर रचना।
    दीपावली की शुभकामनाएं......

    ReplyDelete
  3. बेहद खुबसूरत रचना

    ReplyDelete
  4. kya baat hai diwali ke waqt pe kya khoobsurat rachna lagaayee hai....shubhkaamnaayein!

    ReplyDelete
  5. Bahut hi sunder, bahut hi pyari, bahut hi bholi bhali rachna...iss baar bahut hi achhi...deewali me 200 - 300 deep or add hop jayenge isase..

    ReplyDelete
  6. सुन्दर पोस्ट इस पावन पर्व की बधाई हो आपको और आपके प्रियजनों को|

    ReplyDelete
  7. @Atul Srivastava : शुक्रिया !, आपको भी पावन ज्योतिर्मय पर्व दीपावली की हार्दिक शुभकामनायें.

    @वर्ज्य नारी स्वर : शुक्रिया !! दीपावली की हार्दिक शुभकामनायें.

    @सुरेन्द्र "मुल्हिद" : धन्यवाद. दीपावली की हार्दिक शुभकामनायें.

    ReplyDelete
  8. deepaawali par bahut arthpurn aur bhaavpurn rachna. deepaawali kee shubhkaamnaayen.

    ReplyDelete
  9. rachana achchhi hai. hamarii or se bhii hardik shubhakamnayen.

    ReplyDelete
  10. ताकि मैं भी..
    जला सकूं करोडों दीये
    आत्मीयता और प्यार के,
    सदाचार और सद्भाव के
    मन में मेरे-तुम्हारे,
    और ह्रदय में हम-सबके

    काश यह भावना सभी के मनों में जागृत हो पाती कुम्हार तो घड़े बना देगा आपके अनुरोध पर आपकी पसंद के ! लेकिन जलाने वालों के भावों को भी तो समझना होगा ना.....वैसे आपने एक सुंदर कल्पना की है भाईचारा स्थापित करने की ......! आपको दीवाली की हार्दिक शुभकामनाएं ..!

    ReplyDelete
  11. सुन्दर भावनायें! आपको भी दीवाली की हार्दिक शुभकामनाएं!

    ReplyDelete
  12. एकता को सशक्त करती सुन्दर पंक्तियाँ..
    दिवाली की शुभकामनाएँ

    आभार

    ReplyDelete
  13. Achchhi Rachana.
    TRILOK SINGH THAKURELA
    triloksinghthakurela.blogspot.com

    ReplyDelete
  14. ये दीया अवश्य जलेगा-- हमसबों के आस्था और विश्वास का.बहुत सुन्दर लिखा है..

    ReplyDelete
  15. बहुत हि सुन्दर रचना|
    दिवाली कि हार्दिक शुभकामना!

    ReplyDelete
  16. @अनिल अवतार : बहुत -बहुत धन्यवाद , अपना होने का अधिकार देने के लिए. दीवाली की शुभकामनायें.

    @P. Dwivedi : Thank you for appreciation and support. Happy Diwali.

    @इमरान अंसारी : शुक्रिया ! आपके घर में भी खुशियों के दीप जगमगाएं.

    ReplyDelete
  17. बहुत सुंदर पंक्तियाँ ... हार्दिक शुभकामनाएं

    ReplyDelete
  18. निश्चित ही आस्था व विश्वाश के दीपों को जलाये रखना होगा.
    दीपोत्सव की शुभकामनायें.

    ReplyDelete
  19. @डॉ जेन्नी शबनम , उमेश महादोषी और सुमन 'मित' : आप सबका शुक्रिया . दीवाली की ढेर साडी शुभकामनायें.

    @केवल राम : अगर दीया जलनेवाली कि भावना 'विशेष' दीया बनवाने वाले के जैसी हुए, तो मेरी कल्पना जल्दी हकीकत का रूप लेगी. धन्यवाद और दीवाली की शुभकामनायें.

    ReplyDelete
  20. सुनो.. मेरे भाई
    भाई कुम्हार !
    मेरी छोटी सी विनती
    कर लो स्वीकार
    भूलूँगा नहीं..
    कभी तेरा उपकार


    अबकी बार..
    जो मिटटी लाना
    दीये बनाने को
    उसमें है मुझे मिलाना
    और चार मुठ्ठी मिटटी
    बच्चों का मन रखने को


    क्योंकि..अब भी शेष है..
    आस्था और विश्वास
    मन में हम-सबके ,
    कि कुछ तो प्रभाव छोड़ेगी ..
    मुठ्ठी भर पवित्र मिटटी
    लाया हूँ जिसे
    मस्जिद, मंदिर, गिरिजा और गुरूद्वारे से acchii prastuti
    Prabhudayal Shrivastava 12 Shivam Sundaram Chhindwa M.P.

    ReplyDelete
  21. खुदा आपकी दुआ कबूल करें, हम भी जलाएंगे दीये आस्था और विश्वास के!!

    आपकी रचनाओं में सीधे , सरल हिंदी के शब्दों से जन-मानस में विचार-क्रांति लाने की विशेष क्षमता है!!

    दिवाली की शुभकामनायें.

    अंजली 'खुशी'

    ReplyDelete
  22. Waah..! Kya khoob aarjoo ki hai aapne.. Shbhan allah..

    Happy Diwali

    ReplyDelete
  23. ***शुभ दीपावली ***

    ReplyDelete
  24. Hi Santosh, bahut achi rachna hai aapki. Diwali ke pavan afsar par yehi umeed karti hu ki har insaan aapki tarah soche aur is kavita se prerna le. Aapko aur aapke parivaar ko Diwali ki hardik shubkamnaye! :)

    ReplyDelete
  25. दीपोत्सव के पावन पर्व पर आपको और आपके ब्लॉग के सभी पाठकों सुख-समृद्धि, स्वास्थ्य और वैभव की शुभकामनायें.

    नयी रचना प्रेरक है!! ब्लॉग का नया रूप मनमोहक लगा.

    ReplyDelete
  26. bahut sarthak rachna hai.
    Deepawali ki shubhkamnaen!

    ReplyDelete
  27. गहरी संवेदनाएं लिए सामयिक रचना ... बहुत ही प्रेरक ...
    आपको दीपावली की मंगल कामनाएं ...

    ReplyDelete
  28. @Smart Indian : शुक्रिया!

    @प्रतीक माहेश्वरी : आज भी हमारे राष्ट्र की सबसे बड़ी जरूरत 'एकता' ही है. धन्यवाद.

    @त्रिलोक सिंह : धन्यवाद!

    @अमृता तन्मय : सबके विचार एक हों तो रोशनी से जगमगा उठेगा हमारा देश. धन्यवाद.

    आप सबों को दीपोत्सव की शुभकामनायें.

    ReplyDelete
  29. "मुठ्ठी भर पवित्र मिटटी
    लाया हूँ जिसे
    मस्जिद, मंदिर, गिरिजा और गुरूद्वारे से"

    अत्यंत पावन और सुंदर भाव और उतनी ही सुंदर प्रस्तुति! बधाई!

    ReplyDelete
  30. आपकी किसी नयी -पुरानी पोस्ट की हल चल बृहस्पतिवार 12 -07-2012 को यहाँ भी है

    .... आज की नयी पुरानी हलचल में .... रात बरसता रहा चाँद बूंद बूंद .

    ReplyDelete
  31. बहुत खूबसूरत खयाल से बुनी रचना

    ReplyDelete

बताएं , कैसा लगा ?? जरुर बांटे कुछ विचार और सुझाव भी ...मेरे अंग्रेजी भाषा ब्लॉग पर भी एक नज़र डालें, मैंने लिखा है कुछ जिंदगी को बेहतर करने के बारे में --> www.santoshspeaks.blogspot.com .