Wednesday, October 12, 2011

राधिका के कृष्ण !





(१)
मैं तो ..
मुसाफिर था
हूँ अब भी ,
कर्मयोगी मुसाफिर 
सफर-दर-सफर,
गोकुल से मथुरा,
मथुरा से हस्तिनापुर





(२)
करने थे काम कई
ओढनी थीं 
जिम्मेवारियां नयी  
फिर भी रहा..
सौ प्रतिशत डूबा..
हर रिश्ते में ,
हर जगह, सबके संग
अब मेरी संगिनी, 
रुक्मिणी-सदृश.. 
जो मेरे साथ है
तो फिर, मेरी चिंता छोडो ..
तेरा मन, अब भी रहता क्यूँ उदास है?



(३) 
तुम्हें ही तो..
हमेशा से..पसंद थे,
राधिका के कृष्ण !
किसी ने भला,
ह्रदय में झांक कर..
कृष्ण से..
ये नहीं पूछा ?
राधिका एवं मीरा में..
और हजारों पटरानियों में
कृष्ण की ..
अपनी पसंद कौन ??



Copyright@Santosh Kumar, 2011
(मेरे कविता संग्रह : आधा-अधूरा प्यार से)
Picture Courtesy : Google Images

33 comments:

  1. तुम्हें ही तो..
    हमेशा से..पसंद थे,
    राधिका के कृष्ण !
    किसी ने भला,
    ह्रदय में झांक कर..
    कृष्ण से..
    ये नहीं पूछा ?
    राधिका एवं मीरा में..
    और हजारों पटरानियों में
    कृष्ण की ..
    अपनी पसंद कौन ??... gaur karnewali baat hai !

    ReplyDelete
  2. रुक्मिणी ka aadha adhoora pyar..
    Nice poem santosh ji...Lovely

    ReplyDelete
  3. बहुत सुन्दर.......तीनो क्षणिकाएं बेहद खूबसूरत हैं|

    ReplyDelete
  4. कृष्ण से कौन सहानुभूति रखे.. छलिये से!!
    प्रेम की विवशता और उलझन को दर्शाती रचना.

    Gaurika 'Padmini'

    ReplyDelete
  5. बहुत ही खूबसूरत......
    पढते वक्‍त ऐसा लगा मानों कृष्‍ण जी ने अपनी भावनाएं कागज पर उतार दीं......
    आभार....

    ReplyDelete
  6. dhanyavaad...ab itnee sundar prastutiyon ka jism, yaani blog ka layout bhee behtar ho to mazaa badh jaae

    ReplyDelete
  7. @सुरेन्द्र "मुल्हिद" : धन्यवाद.

    @रश्मि प्रभा : आपने सही बात ढूंढ ली, जो मैं कहना चाहता
    था. धन्यवाद!

    @P. Dwivedi : रुक्मिणी, राधिका और कृष्ण. सभी अधूरे रहे.

    ReplyDelete
  8. मैं तो ..
    मुसाफिर था
    हूँ अब भी ,
    कर्मयोगी मुसाफिर
    सफर-दर-सफर,
    गोकुल से मथुरा,
    मथुरा से हस्तिनापुर
    -------अच्छी रचना है.

    ReplyDelete
  9. @इमरान अंसारी और सागर : शुक्रिया.

    @गौरिका 'पद्मिनी' : ब्लॉग पर आने के लिए शुक्रिया. रही बात कृष्ण की.. किसी के साथ छल.. किसी के प्रति प्रेम-विह्वल. कृष्ण का जीवन सम्पूर्ण दर्शन है अपने आप में.

    Dr Shyam Gupta : Thank you for visiting and appreciation, do visit again.

    ReplyDelete
  10. तीनो क्षणिकाएं बेहद खूबसूरत हैं| धन्यवाद|

    ReplyDelete
  11. मर्मस्पर्शी भावों से सजी रचनाएँ ....आपको हार्दिक शुभकामनायें

    ReplyDelete
  12. अच्छी रचना और गूढ अर्थ- बधाई संतोष भाई॥

    ReplyDelete
  13. @Atul Shrivastava : धन्यवाद. कृष्ण के जीवन-दर्शन से बहुत प्रेरणा और शिक्षा मिलती है हमें!

    @Newslogger : Thank you for suggestion, I will improve my website very soon.

    @Reena Maurya : Thank you, do visit again.

    ReplyDelete
  14. तीनो क्षणिकाएं बेहद खूबसूरत हैं.

    ReplyDelete
  15. क्रिसन तो वैसे ही सबके हैं और सब उनके तो ये फर्क क्यों करना ... उसकी माया वो ही जानता है ...

    ReplyDelete
  16. @उमेश महादोषी, Patli-the-village और डॉ मोनिका शर्मा :

    शुक्रिया ..सराहना के लिए.

    ReplyDelete
  17. कृष्ण के प्रेम-प्रसंग और जीवन-दर्शन मुझे बेहद पसंद हैं, इस खूबसूरत रचना के लिए सहृदय धन्यवाद. आपकी ऐसी और रचनाओं का इंतज़ार रहेगा.. साभार.

    ReplyDelete
  18. Krishn to sabme bante they lekin krishn ki apni ek hin thee Radha. teenon rachna bahut sundar, badhai.

    ReplyDelete
  19. बहुत सुन्दर और भावपूर्ण रचना! लाजवाब प्रस्तुती !

    ReplyDelete
  20. राधिका एवं मीरा में..
    और हजारों पटरानियों में
    कृष्ण की ..
    अपनी पसंद कौन ??
    bhut achchi abhivaykti.

    ReplyDelete
  21. congenitalsequeliccure.blogspot.com is my blog .

    ReplyDelete
  22. बहुत ही सुन्दरता से शब्दों को सजाया है आपने....

    ReplyDelete
  23. बहुत ही सुन्दर प्रस्तुति... बहुत ही सरलता से गहरे भाव उकेरे हैं आपने.. आभार..

    ReplyDelete
  24. jsi shri krin.radhe radhe..jai sri ram ..har har bhole
    yehi sab bhagt kahte hai yehi sab sant gate hai n jane konse gun pe daya nidhi rinjh jate hai...

    ReplyDelete

बताएं , कैसा लगा ?? जरुर बांटे कुछ विचार और सुझाव भी ...मेरे अंग्रेजी भाषा ब्लॉग पर भी एक नज़र डालें, मैंने लिखा है कुछ जिंदगी को बेहतर करने के बारे में --> www.santoshspeaks.blogspot.com .