Saturday, December 31, 2011

नव् वर्ष की शुभकामना !


लो भई
आ गई
नयी सुबह
नव वर्ष की
जीवन के
नए सत्र की

खुशबू सी है फैली
चहुंओर ..
नए पुष्प की
नए कोंपल की
नवीन पल्लव की

फिर से
शुरू करें
जीना ...
इस जीवन को
उल्लास से
नए जोश से
बदलें
कैलेंडर .. डायरियां
अपने घर की.

आओ !
मिल लो गले
सुन लो!
बाँट लो !
मित्रों में ..
अपनो में
परिजनों में
बात मेरे दिल की..
दिल के आह्लाद की .

आप सबों को नूतन वर्षाभिनंदन, ,  वर्ष २०१२ की मंगलकामनाये.
Copyright@संतोष कुमार ‘सिद्धार्थ’, २०१२  

21 comments:

  1. sundar abhivykti
    nav varsh ki shubhakamnaye...

    ReplyDelete
  2. बहुत सुन्दर...आप को सपरिवार नव वर्ष की हार्दिक शुभकामनायें !

    ReplyDelete
  3. बहुत सुन्दर...
    नव वर्ष की शुभकामनाएँ...

    ReplyDelete
  4. आपको और आपक‍े परिवार को भी नव वर्ष की शुभकामनाएं......
    नया साल आपके जीवन में समृध्दि और खुशहाली लेकर आए.....

    ReplyDelete
  5. बहुत ही खुबसूरत नयी आशा नयी मुराद के साथ ये नया साल खुशियों भरा हो|

    ReplyDelete
  6. बहुत खूब

    नववर्ष मंगलमय हो

    ReplyDelete
  7. बहुत सुंदर रचना,


    नव वर्ष की हार्दिक शुभकामनायें !

    ReplyDelete
  8. bahut achchi rachna...aapko bhi nav varsh ki shubhkamnaye :)

    ReplyDelete
  9. बहुत सुंदर प्रस्तुति,...

    WELCOME to new post--जिन्दगीं--

    ReplyDelete
  10. Bahut sundar bhaav...nav varsh ki hardik shubkamnaye..

    ReplyDelete
  11. शुभकामनाओं की सुन्दर प्रस्तुति के लिए धन्यवाद! हमारी ओर से आपको भी हार्दिक मंगलकामनाएं!

    ReplyDelete
  12. Happy new year to you All. Nice post!!

    ReplyDelete
  13. bahut achchhee hai...aapko bhi nav varsh ki hardik shubhkamnayein...

    ReplyDelete
  14. Nav varsh pr apko sadar badhai ....bahut sundar rachana ke liye bahut bahut abhar Santosh ji

    ReplyDelete
  15. बहुत सुन्दर...आप को सपरिवार नव वर्ष की हार्दिक शुभकामनायें !

    स्वागत सब मिलकर करें, नए साल का आज
    हिम्मत साहस से बढें, सुलझ जाएं सब काज|

    नया नया विश्वास हो, नया नया संवाद
    नयी नयी हो भावना, नया नया आह्लाद|

    घर घर में जलते रहें, नेह भाव के दीप
    प्रेमभाव की मुक्तिका, निपजे मन के सीप|

    सपनों को अपना करें, बोकर श्रम के बीज
    श्रम सीकर को बांधकर, बने नया ताबीज|

    नए साल की मंगलकामनाओं सहित,

    डा. गिरिराजशरण अग्रवाल
    हिंदी साहित्य निकेतन
    16 साहित्य विहार
    बिजनौर (उ.प्र.)

    ReplyDelete
  16. सार्थक सृजन , हमारी भी कामना है ..

    ReplyDelete
  17. bahut sundar............aapko bhi navvarsh ki shubhkaamnayea

    ReplyDelete

बताएं , कैसा लगा ?? जरुर बांटे कुछ विचार और सुझाव भी ...मेरे अंग्रेजी भाषा ब्लॉग पर भी एक नज़र डालें, मैंने लिखा है कुछ जिंदगी को बेहतर करने के बारे में --> www.santoshspeaks.blogspot.com .