Tuesday, November 27, 2012

मेरी नज़र

तुझे
मालूम हो
कि ना मालूम हो
रही है
बरसों से
तुझ पर
मेरी नज़र ...
कभी परदे के आगे से
कभी ..पीछे से !

Copyright@संतोष कुमार 'सिद्धार्थ', २०१२.

5 comments:

  1. जानता है वो सब....
    देखता है वो सब...पलकों को मीचे मीचे....

    अनु

    ReplyDelete
  2. वाह ... बेहतरीन

    ReplyDelete

बताएं , कैसा लगा ?? जरुर बांटे कुछ विचार और सुझाव भी ...मेरे अंग्रेजी भाषा ब्लॉग पर भी एक नज़र डालें, मैंने लिखा है कुछ जिंदगी को बेहतर करने के बारे में --> www.santoshspeaks.blogspot.com .