Saturday, January 12, 2013

चलो !

चलो !
कहीं दूर चलें
बहुत दूर चलें
वहाँ चलें
जहाँ.. चेहरे हों
घर हो,
प्रकृति हो,
जीवन हो
पर.. न कोई मेरा हो
न ही कोई तुम्हारा हो
बस बज रहा हो संगीत 
उस जहाँ में..
दिलों के साथ-साथ धडकने का !

Copyright@संतोष कुमार 'सिद्धार्थ', २०१३.



3 comments:

  1. सुन्दर , कोमल और प्यारे एहसास .

    चलो .. चलें.

    अनुभूति श्रीवास्तव

    ReplyDelete
  2. सुन्दर भाव

    ReplyDelete

बताएं , कैसा लगा ?? जरुर बांटे कुछ विचार और सुझाव भी ...मेरे अंग्रेजी भाषा ब्लॉग पर भी एक नज़र डालें, मैंने लिखा है कुछ जिंदगी को बेहतर करने के बारे में --> www.santoshspeaks.blogspot.com .