Friday, April 13, 2012

मिलना ..मेरा - तुम्हारा

जब कभी भी
मेरा  चेहरा
और 
तेरा चेहरा
करीब आते हैं
एक - दूसरे के
और खो देते हैं
कुछ यूँ घूम-मिल कर
अपनी-अपनी पहचान
इस जहाँ में
कहीं न कहीं 
सुबह होती है
शाम होती है
फुहारे पड़ती हैं
खुशबू उडती है
ये धरती
सूरज, चाँद सितारे सभी
सलाम कर रहे होते हैं
अपनी-अपनी अदा से
मुझे और तुझे
और जज्ब कर रहे होते हैं
हमारे अनमोल और अद्भुत 
मिलन के जादू को !


Copyright@संतोष कुमार 'सिद्धार्थ' , २०१२ 


9 comments:

  1. प्रेम मिलन यानि आध्यात्म का अभिनव जादू

    ReplyDelete
  2. sunder baat ....
    dhartii aur sooraj mile to din ....
    bichhade to raat .....

    sunder rachna ....shubhkamnayen ....!!

    ReplyDelete
  3. wow great lines.

    ReplyDelete
    Replies
    1. शुक्रिया इमरान जी !!

      Delete
  4. मिलन का जादू अनमोल और अद्भुत ही होता है ...

    ReplyDelete
  5. सुन्दर कविता..!!
    कलमदान

    ReplyDelete
  6. वाह.........बहुत सुंदर भाव...........

    ReplyDelete

बताएं , कैसा लगा ?? जरुर बांटे कुछ विचार और सुझाव भी ...मेरे अंग्रेजी भाषा ब्लॉग पर भी एक नज़र डालें, मैंने लिखा है कुछ जिंदगी को बेहतर करने के बारे में --> www.santoshspeaks.blogspot.com .