Sunday, July 7, 2013

सपने !





आओ सपने पिरोयें
मोतियाँ तुम्हारीं
धागे मैं लाया हूँ !

Copyright@संतोष कुमार 'सिद्धार्थ', २०१३.

3 comments:

बताएं , कैसा लगा ?? जरुर बांटे कुछ विचार और सुझाव भी ...मेरे अंग्रेजी भाषा ब्लॉग पर भी एक नज़र डालें, मैंने लिखा है कुछ जिंदगी को बेहतर करने के बारे में --> www.santoshspeaks.blogspot.com .