Sunday, January 22, 2012

जिंदगी


१.
हैं कुछ सवाल
मन में,
रहते हैं
उमड़ते – घुमड़ते
कभी – कभी
छलक आते हैं
आंसू बनकर
आँखों के कोरों पर
और कभी
पसीने की बूंदो में
चमक उठते हैं
मेरी पेशानी पर..
२.
क्षितिज पर
जमीन-आसमां
क्यूँ मिलते नहीं हैं ?
क्यूँ सपनों को
बादलों से पंख होते नहीं हैं?
क्यूँ हर नदी
सागर से जाकर मिलती है?
क्यूँ ये जिंदगी
बड़े-बड़ों से भी
अकेले नहीं संभलती है?
क्यूँ जन्म लेता हूँ,
मरता हूँ बार – बार
तुझसे ही बिछुड कर,
तुझसे ही मिलने को ??

Copyright@संतोष कुमार ‘सिद्धार्थ’, २०१२ 

12 comments:

  1. बहुत सुन्दर...
    क्यूँ जन्म लेता हूँ,
    मरता हूँ बार – बार
    तुझसे ही बिछुड कर,
    तुझसे ही मिलने को ??
    जीवन चक्र वास्तव में बड़े प्रश्न चिन्ह खड़े करता है...

    अच्छी रचना..

    ReplyDelete
  2. बहुत ही प्रशंसनीय प्रस्तुति । मेरे नए पोस्ट पर आपका इंतजार रहेगा । धन्यवाद ।

    ReplyDelete
  3. जीवन अनबूझ पहेली... सुन्दर भाव

    ReplyDelete
  4. जिंदगी पहेली ही तो है।

    ReplyDelete
  5. उमड़ते–घुमड़ते सवाल ही तो अनबूझ पहेली है। प्रासंगिक भाव..

    ReplyDelete
  6. क्षितिज पर
    जमीन-आसमां
    क्यूँ मिलते नहीं हैं ?
    क्यूँ सपनों को
    बादलों से पंख होते नहीं हैं?.......बहुत खूब

    क्षितज पर मिलने का आभास ही ....सपनो का आगाज़ हैं

    ReplyDelete
  7. अच्छी रचना है, प्रासंगिक भाव

    ReplyDelete
  8. wah. antim panktiyon mein aapne gadar macha diya

    ReplyDelete
  9. बहुत ही अच्‍छी प्रस्‍तुति ।

    ReplyDelete
  10. .
    इस सार्थक पोस्ट के लिए बधाई स्वीकार करें.
    कृपया मेरे ब्लॉग पर भी पधारें, अपनी राय दें, आभारी होऊंगा.

    ReplyDelete

बताएं , कैसा लगा ?? जरुर बांटे कुछ विचार और सुझाव भी ...मेरे अंग्रेजी भाषा ब्लॉग पर भी एक नज़र डालें, मैंने लिखा है कुछ जिंदगी को बेहतर करने के बारे में --> www.santoshspeaks.blogspot.com .