Wednesday, August 29, 2012

अनंत के प्रतिबिम्ब !

आओ दिखाएँ 
तुम्हे,
तुम्हारी आँखों में
अनंत का एक रूप
बिल्कुल प्रत्यक्ष में
जरा बैठो तो...
मेरे सामने
और झाँको मेरी आँखों में
और गिनो,
अगर गिन सको तो..?
मेरी आँखों में
तुम्हारी आँखों के
कितने प्रतिबिम्ब हैं?
प्रतिबिम्ब और भी गुणित होंगे...
अगर जो ढलके
एक-दो बूँद आँसू
मेरी या तुम्हारी आँखों में !

Copyright@संतोष कुमार 'सिद्धार्थ', २०१२ 

26 comments:

  1. प्रतिबिम्ब और भी गुणित होंगे...
    अगर जो ढलके
    एक-दो बूँद आँसू
    मेरी या तुम्हारी आँखों में !
    गहन भाव लिए उत्‍कृष्‍ट अभिव्‍यक्ति ।

    ReplyDelete
  2. बहुत ही खूबसूरत व्याख्या, अच्छा लगता है हिंदी का साहित्यिक अंदाज़.
    संतोषजी और आपकी लेखिनी भी दिन प्रति दिन धारदार होती जा रही है

    ReplyDelete
    Replies
    1. प्रवीण जी : बहुत दिनों के बाद आपको फिर से मेरी ये कविता पसंद आई. आपकी फोटोग्राफी के भी खूब चर्चे है. आप सफलता की रह पर अग्रसर हो. शुभकामनायें.

      Delete
  3. यह भाव अनंत को दर्शाता है और अनंत को समझना , उसके प्रतिविम्बों से रूबरू होना सूक्ष्म समर्पण से ही संभव है ....

    ReplyDelete
  4. बेहद गहन अभिव्यक्ति

    ReplyDelete
  5. बहुत सुंदर...आपको हार्दिक शुभकामनायें...|

    ReplyDelete
  6. प्रेम और समर्पण के सुन्दर भाव... शुभकामनायें

    ReplyDelete
  7. लौकिक भी ...अलौकिक भी ......सुन्दर बिम्बों का प्रयोग।


    ReplyDelete
    Replies
    1. मेरे ब्लॉग पर आने और समीक्षा के लिए शुक्रिया.

      Delete
  8. अनंत को समझने के लिए एकाग्रता जरूरी है...अलग हटकर रचना !

    ReplyDelete
    Replies
    1. मेरे ब्लॉग पर आने और समीक्षा के लिए शुक्रिया.

      Delete
  9. पारलैकिक प्रेम की बहुत सुंदर अभिव्यक्‍ति ! बधाई !

    ReplyDelete
    Replies
    1. ब्लॉग पर आने और रचना की विवेचना के लिए धन्यवाद !

      Delete
  10. वाह,बहुत खूब

    ReplyDelete
  11. गहरी रचना है ... अनंत को अंकों द्वारा ही देखना संभव है ...

    ReplyDelete
  12. प्रतिबिम्ब और भी गुणित होंगे...
    अगर जो ढलके
    एक-दो बूँद आँसू
    मेरी या तुम्हारी आँखों में !

    ....बहुत गहन भाव...सुन्दर भावमयी प्रस्तुति...

    ReplyDelete
  13. और झाँको मेरी आँखों में
    और गिनो,
    अगर गिन सको तो..?

    गहन अभिव्यक्ति और भावमयी प्रस्तुति..

    ReplyDelete
    Replies
    1. मेरे ब्लॉग पर आने का शुक्रिया!

      Delete
  14. तनिक कंकरी परत ,नैन होत बे -चैन ,
    उन नैनन की क्या दशा ,जिन नैनन में नैन ....
    नैन से नैन नाहीं मिलावो ...नैनों पे कितना कुछ लिखा गया है ये रचना भी अप्रतिम हैं :मेरी आँखों में तुम्हारी आँखों के हैं अनगिन प्रतिबिम्ब ,इसीलिए कहता रहता ,मत गिन मत गिन ,मत गिन ....
    मंगलवार, 4 सितम्बर 2012
    Connecting the Dots : Type 2 Diabetes
    The Basics (पारिभाषिक शब्दावली के साथ हिंदी में भी जल्द आ रहा है यह आलेख :बुनियादी बातें जीवन शैली रोग मधुमेह की )

    Diabetes ,which affects 25.8 million Americans , is a disease in which people have high blood glucose

    (blood sugar )levels due to the body's inability to produce or use insulin .

    Insulin is a hormone that converts the sugars and starches that you eat into glucose , the fuel for your cells.

    In Type 1 (often called juvenile) diabetes , the body does not produce insulin from birth .

    With Type 2 diabetes ,over time the body either stops producing enough insulin or does not respond properly to insulin (insulin resistance).

    Untreated or poorly managed diabetes can lead to chronically high blood sugar levels , a risk factor for heart disease , nerve damage , vision loss and other problems.

    ReplyDelete
  15. आज 4/09/2012 को आपकी यह पोस्ट (विभा रानी श्रीवास्तव जी की प्रस्तुति मे ) http://nayi-purani-halchal.blogspot.com पर पर लिंक की गयी हैं.आपके सुझावों का स्वागत है .धन्यवाद!

    ReplyDelete
  16. वाह...
    बहुत सुन्दर एवं गहन अभिव्यक्ति...

    अनु

    ReplyDelete
  17. Lovely poem. Touches my heart.

    wishes

    Anoushka Dandekar

    ReplyDelete
  18. तुम्हारी आँखों के
    कितने प्रतिबिम्ब हैं?
    प्रतिबिम्ब और भी गुणित होंगे...
    अगर जो ढलके
    एक-दो बूँद आँसू
    मेरी या तुम्हारी आँखों में !

    bahut behtareen...

    ReplyDelete

बताएं , कैसा लगा ?? जरुर बांटे कुछ विचार और सुझाव भी ...मेरे अंग्रेजी भाषा ब्लॉग पर भी एक नज़र डालें, मैंने लिखा है कुछ जिंदगी को बेहतर करने के बारे में --> www.santoshspeaks.blogspot.com .